Navalben Chaudhary Story: 62 साल की उम्र में दूध का डेरी खोल कर, कड़ी की करोड़ो का बिज़नेस 

0
Navalben Chaudhary Story

Navalben Chaudhary Story: Navalben Chaudhary नाम आपने सुना है क्या? एक महिला जो आपने शायद कभी भी नहीं सोचा होगा कि 62 साल की उम्र में कैसे अपना खुद का दूध का डेरी खोल सकती है और एक करोड़ की कंपनी बना सकती है। वह एक संघर्षशील महिला है जो अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपार मेहनत और समर्पण की नमूना हैं।

62 वर्ष की उम्र में अधिकांश लोग घर पर बैठे रहते हैं, लेकिन नवलबेन चौधरी ने इस उम्र में कुछ ऐसा किया है कि हर कोई हैरान है। आज की पोस्ट में हम एक महिला सफलता की कहानी बताने वाले हैं। गुजरात के नगला नामक छोटे से गांव में रहने वाली नवलबेन चौधरी ने सिर्फ दूध बेचकर एक करोड़ का व्यवसाय बनाया है।

कौन है Navalben Chaudhary?

नवालबेन चौधरी गुजरात के एक छोटे से गांव से हैं। उनका जन्म और बचपन वहां ही बिताया गया। उन्होंने अपने बचपन की दिनों में कठिनाइयों का सामना किया, लेकिन उन्होंने हमेशा मन में एक बचपन का सपना पाला कि वह खुद का व्यापारी बनना चाहती थीं। उन्होंने अविश्वसनीय परिश्रम, समर्पण और उत्साह के साथ खुद को निर्माण किया है और अब उन्हें उनकी मेहनत का फल मिल रहा है।

Navalben Chaudhary Story
———- Navalben Chaudhary Story ———-

Also Read:- Saraam Success Story: 19 साल के लड़के ने YouTube से सिखा चॉकलेट बनाना,खड़ी कर दी करोड़ो की कंपनी! पूरा पढ़े

दूध का डेरी कैसे की शुरुआत?

नवालबेन चौधरी की दूध का डेरी की कहानी कई साल पहले की है, जब उन्होंने अपने छोटे से गांव में एक छोटी सी दूध डेरी खोली। शुरुआत में, वह बहुत कम तंगदस्त थीं और सामग्री की कमी के कारण बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। लेकिन वह अपने सपने से पटरी नहीं हटीं और अपने कर्मठता के साथ मेहनत करती रहीं।

Navalben Chaudhary Story
———— Navalben Chaudhary Story ————

62 साल की उम्र में खोली अपना दूध का डेरी

चंधारी जैसे छोटे से गांव में दूध का डेरी खोलना, नवालबेन चौधरी के लिए बहुत बड़ा कदम था। लोगों ने उन्हें हास्य का पात्र माना और ताने मारने वाले उनकी ओर इशारे करते रहे। लेकिन वह ब्रेवहार्टेड हैं और स्वयंसेवी रूप से डेरी की सुविधाओं के लिए बटोरा। उन्होंने सुंदर सपनों के साथ डेरी को अपने अंदर विकसित किया और गांव के लोगों को संबलपुर्ण दूध आपूर्ति प्रदान करना शुरू किया। आज, उन्होंने अपने दूध का व्यापार पूरे गुजरात में बढ़ाया है और यह करोड़ की कंपनी बन गया है।

नबलबेन एक किसान परिवार में जन्मा था। उनके पति का देहांत होने के बाद उनके पास परिवार को पालने के लिए कोई और विकल्प नहीं था। उन्हें अपने गाँव में एक छोटी सी डेरी खुली। शुरुआत में वे बहुत संघर्ष करते थे। दूध की गुणवत्ता को बरकरार रखने के लिए उन्हें बहुत कुछ करना पड़ा। उन्हें अपने व्यवसाय को विकसित करने के लिए भी कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा।

नबलबेन ने अपने काम में लगी रही और कभी हार नहीं मानी। उनके गाँव के किसानों से दूध खरीदकर उसे शहर में बेचना शुरू किया। उन्होंने दूध की गुणवत्ता में सुधार किया और अपने उद्यम में नवीनतम तकनीकों का इस्तेमाल किया।

Also Read:- ₹50 करोड़ टर्न ओवर “Germeria Hair and Wigs”:  मंदिरों से मिले हेयर डोनेशन से हेयर एक्सटेंशन और विग किया तैयार

कर दी करोड़ की कंपनी

Navalben Chaudhary Story
———- Navalben Chaudhary Story ———-

Navalben Chaudhary की मेहनत और समर्पण के कारण, वह अपने दूध के व्यापार में बहुत आगे बढ़ गई हैं। वह एक प्रमुख दूध आपूर्ति आयातक और मार्केटिंग कंपनी बन गई हैं जो गुजरात में उच्च गुणवत्ता वाला दूध आपूर्ति प्रदान करती हैं। उनकी कंपनी ने गुजरात के अनेक जिलों में अपनी शाखाएँ खोली हैं और उनका बिजनेस दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। नवालबेन चौधरी की करोड़ की कंपनी एक महिला के लिए उदाहरणीय है और उनकी कठिनाइयों के बावजूद वह एक अद्भुत सफलता की कहानी है।

गुजरात के बनासकांठा जिले की एक महिला, नवलबेन चौधरी, ने दूध उत्पादन से करोड़ों की कंपनी बनाई है। 2017 में नवलबेन ने पशुपालन शुरू किया था, लेकिन आज उनके पास 45 गाय और 80 भैंस हैं। ये मवेशी प्रतिदिन एक हजार लीटर दूध देते हैं। इस दूध को नवलबेन बनास डेयरी को बेचते हैं।

नवलबेन ने कहा कि शुरू में उन्होंने बहुत मेहनत की है। उन्हें कई चुनौतीओं का सामना करना पड़ा है, लेकिन उन्होंने साहस नहीं खोया। आज उनकी कंपनी लाखों रुपये महीने कमाती है। नवलबेन ने अपने कार्यालय से भी पंद्रह लोगों को काम दिया है।

Navalben Chaudhary Story Interview

नबलबेन की कहानी प्रेरक है। यह बताता है कि उम्र की कोई सीमा नहीं है। दृढ़ संकल्प और मेहनत आपको कुछ भी हासिल कर सकते हैं।

हम चाहते हैं कि इस लेख से आपको महिला सफलता की कहानी और नवाबेन चौधरी की कहानी पता चली होगी। नबलबेन चौधरी की कहानी भी जानने के लिए इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें अगर आप इसे पसंद करते हैं। हमारे “बिजनेस” पेज पर अधिक लेख पढ़ने के लिए कृपया जाएँ।

FAQ – आम प्रश्न

यहां कुछ आम प्रश्न हैं जो Navalben Chaudhary के बारे में आपके दिमाग में आ सकते हैं।

Navalben Chaudhary की उम्र क्या है?

Navalben Chaudhary 62 साल की हैं।

क्या Navalben Chaudhary ने खुद अपनी कंपनी शुरू की है?

हाँ, Navalben Chaudhary ने अपनी करोड़ की कंपनी खुद शुरू की है।

Navalben Chaudhary किसे प्रेरित करती हैं?

Navalben Chaudhary वह महिला हैं जो दूसरों को यह सिखाती हैं कि आपकी उम्र व लंबेपन कोई बाधा नहीं है और आप सब कुछ प्राप्त कर सकते हैं।

Navalben Chaudhary के दस्तावेज़ का नाम क्या है?

Banas Diary नबलबेन चौधरी के डेरी का नाम है।

नबलबेन चौधरी को क्या पुरस्कार मिला है?

नवलबेन अपने कार्य के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित हुए हैं। उन्हें दो बार पादरी पुरस्कार और तीन बार लक्ष्मी पुरस्कार मिला है।

“यहॉं आपने नावालबेन चौधरी की कहानी के बारे में पूरी जानकारी देखी हैं। यह एक आदर्श उदाहरण हैं कि कठिनाइयों और अवसरों के सामने हम अगर सही दृष्टिकोण से प्रतिष्ठिति करें तो कुछ भी संभव हैं। नावालबेन चौधरी ने अपने सपनों को साकार किया हैं, हमें भी अपने सपनों को पूरा करने के लिए मेहनत और समर्पण करना चाहिए।”

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *